तनाव से छुटकारा पाने के लिए आने-जाने श्वास पर ध्यान केंद्रीत करें

0
197

तनाव से छुटकारा पाने के लिए आने-जाने श्वास पर ध्यान केंद्रीत करें

तनाव से छुटकारा पाने के लिए आने-जाने श्वास पर ध्यान केंद्रीत करें :  आने-जाने श्वास पर ध्यान केंद्रीत करना एक सरल-सी प्रक्रिया है,  जिस पर हमें रोज दिन भर ख्याल रखना है|  चलते, उठते, बैटते, सोते (जब तक ख्याल रहे) श्वास पर ही ध्यान केंद्रीत करना है|  पुरे वक्त हमारी स्मृति श्वास पर रहनी चाहिए|  यदि श्वास भीतर जा रही है तो हमारी स्मृति भी उसके साथ भीतर जानी चाहिए, इस बोध के साथ कि श्वास भीतर गयी| श्वास बाहर जा रही है, तो बोध भी श्वास के साथ बाहर जाये|  आप श्वास पर ही तैरने लगे|  बिलकुल नहीं भूलें|  जब भी भूल जाएँ और जब याद आए, इस प्रक्रिया को फ़ौरन शुरु कर दें|  कहीं घुमने जा रहें हैं या बगीचे में फूलों को निहार रहे हैं या ऑफिस में काम कर रहें हैं या फिर आप और कोई दुसरे काम कर रहें हैं| अपनी श्वास को स्मरण में रखना है| इसे छोड़ना नहीं है|

तनाव से छुटकारा पाने के लिए आने-जाने श्वास पर ध्यान केंद्रीत करें
तनाव से छुटकारा पाने के लिए आने-जाने श्वास पर ध्यान केंद्रीत करें

और पढ़ें:  गायत्रीं मंत्र की महिमा की कहानी

आप पाएंगे की तीन-चार धिन में स्मरण टिकने लगा है| जैसे-जैसे स्मरण टिकने लगेगा वैसे वैसे ही आपका चित शांत होने लगेगा| ऐसी शांति जो आपने कभी महसूस नहीं की होगी या जानी नहीं होगी| जब चित पूर्ण श्वास के साथ चलने लगता है, तो विचार अपने आप बंद होने लकते हैं|  क्योंकि दोनों क्रियाएं एक साथ नहीं चल सकती है| श्वास पर चित रहेगा तो विचार बंद होंगे और विचार पर चित जाएगा, तो श्वास पर नहीं रहेगा| श्वास पर ध्यान केंद्रीत करने से विचार वहां से खो जायेंगे| विचार सीधे हटाना तो बहुत कटिन है|  क्योंकि वह तो विचारों  को दबाना हो जाता है|  इसलिए पूरी चेतना को दूसरी जगह ले जाया जाता है|  विचार छोड़ने का ख्याल नहीं करना है| श्वास पर ध्यान देने से विचार अपने-आप छूट जाते हैं|

पुरे समय श्वास पर ध्यान रखना है
पुरे समय श्वास पर ध्यान रखना है

विचार एक ऐसा तल है जहाँ श्वास का स्मरण नहीं हो सकता है| श्वास दूसरा तल है जहाँ विचार नहीं है| दोनों बिलकुल विरोधी प्रक्रियाएं है|  अगर एक तल पर से जाते है तो दूसरी की अपने आप मुक्ति हो जाती है|  इसलिए पुरे समय श्वास पर ध्यान रखना है|  सुबह उठें तो पहला स्मरण श्वास का, रात सोयें तो अंतिम स्मरण श्वास का होना चाहिए|

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here