चूहों के अनोखे मंदिर यहाँ सफेद चूहा दिख जाए तो भाग्य खुल जाए

0
183

चूहों के अनोखे मंदिर यहाँ सफेद चूहा दिख जाए तो भाग्य खुल जाए

चूहों को प्लेग जैसी कई भयानक बीमारियों का कारण माना जाता है. घर में चूहों को देखकर भले ही आप उन्हें मारने के सौ उपाय करें लेकिन एक स्थान ऐसा है जहां चूहों को मारा नहीं जाता यह स्थान है राजस्थान का देशनोक नामक स्थान। क्या आपको पता है कि हमारे देश भारत में माता का एक ऐसा मंदिर भी है जहां 20000 चूहे रहते है और मंदिर में आने वाले भक्तो को चूहों का जूठा प्रसाद ही मिलता है. भगवान गणेश का वाहन चूहा यहां पूरे मंदिर में धमा-चौकरी में मचाता-फिरता है। माता के दर्शन करने वालों के पैरों पर और शरीर पर भी चूहा चढ़ जाता है राजस्थान के बीकानेर से 30 किलोमीटर दूर है देशनोक, यहीं है करणी माता का विश्व-विख्यात मंदिर. इस मंदिर को लोग देश और दुनिया में ‘चूहों वाला मंदिर’ के नाम से भी जानते हैं.

चूहों के अनोखे मंदिर यहाँ सफेद चूहा दिख जाए तो भाग्य खुल जाए
चूहों के अनोखे मंदिर यहाँ सफेद चूहा दिख जाए तो भाग्य खुल जाए
और पढ़ें:  इस मंदिर में महिलाओं को प्रसाद नहीं देते हैं

मंदिर में आने वाले भक्तो को चूहों का जूठा प्रसाद ही मिलता है

करनी माता के दर्शन करने के लिए जो भी भक्त आते हैं वह इन चूहों के खाने के लिए कुछ न कुछ जरूर लाते हैं। माता के मंदिर में सुबह की पूजा और शाम की आरती के समय चूहों की फौज देखने लायक होती है। मंदिर में आपको बड़ी ही सावधानी से अपना पैर रखना होगा अन्यथा एक दो चूहे पैरों से दबकर मर भी सकते हैं। चूहों का दबकर मर जाना यहां अपशकुन समझा जाता है।

मंदिर में आने वाले भक्तो को चूहों का जूठा प्रसाद ही मिलता है
मंदिर में आने वाले भक्तो को चूहों का जूठा प्रसाद ही मिलता है

151 साल की उम्र में करणी माता इस जगह ज्योर्तिलीन हो गयीं थीं

करनी माता को इस क्षेत्र में जगदम्बा का अवतार माना जाता है। मान्यता है कि करनी माता का जन्म एक चारण परिवार में हुआ था। अब से लगभग छह सौ वर्ष पूर्व जिस स्थान पर यह भव्य मंदिर है, वहां एक गुफा में रहकर मां अपने इष्ट देव की पूजा अर्चना किया करती थीं. ये मंदिर तब बनाया गया , जब 151 साल की उम्र में करणी माता इस जगह ज्योर्तिलीन हो गयीं थीं. यह गुफा आज भी मंदिर परिसर में स्थित है.

सफेद चूहों का दिख जाना बड़ा ही शुभ संयोग माना जाता है
सफेद चूहों का दिख जाना बड़ा ही शुभ संयोग माना जाता है

सफेद चूहों का दिख जाना बड़ा ही शुभ संयोग माना जाता है

जैसे अमरनाथ मंदिर में कबूतरों को दिखना शुभ माना जाता है ठीक इसी तरह करनी माता मंदिर में चूहों की फौज में सफेद चूहों का दिख जाना बड़ा ही शुभ संयोग माना जाता है। मान्यता है कि सफेद चूहा दिख जाने से मांगी गयी मुराद पूरी होती है। आश्चर्य की बात यह है कि इतने चूहे होने के बाद भी मंदिर में बिलकुल भी बदबू नहीं है, आज तक कोई भी बीमारी नहीं फैली है, यहां तक कि चूहों का जूठा प्रसाद खाने से कोई भी भक्त बीमार नहीं हुआ है.

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here